Allahabadi Jokes And Shayri

  • 0

Allahabadi Jokes And Shayri

Category : Uncategorized

तू बेशक अपनी महफ़िल में मुझे बदनाम करती हैं…
लेकिन तुझे अंदाज़ा भी नहीं कि वो लोग भी मेरे पैर छुते है
जिन्हें तू भरी महफ़िल में सलाम करती है…….!!!!
एक लड़की अपने ब्वॉयफ़्रेंड को अपने घर आने का रास्ता बता रही थी।
” देखो, बिल्डिंग के अंदर आकर बाईं तरफ़ लिफ़्ट है। लिफ़्ट में आकर अपनी कोहनी से 9 नम्बर का बटन दबाना –जब नौवें फ़्लोर
पर आ जाओ तो राइट हैंड पर दूसरा फ़्लैट हमारा है।
यहाँ आकर अपनी कोहनी से घंटी का
बटना दबाना, मैं दरवाज़ा खोल दूंगी ”
ब्वॉयफ़्रेंड: लेकिन स्वीटहार्ट ये सब बटन मैं उंगली से दबाऊंगा तो ज़्यादा आसानी होगी
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
.
लड़की: ओह माई गॉड!!!… मतलब तुम खाली हाथ आ रहे हो?!!!
एक ख्वाहिश पूरी हो, इबादत के बगैर…
वो आकर लिपटे मुझसे, मेरी इजाजत के बगैर.
किसी इंसान का पहला प्यार बनना कोई बड़ी बात नहीं,
बनना है, तो किसी का आखिरी प्यार बनो,
इसलिए यह मत सोचो, कि तुमसे पहले वह किसी का प्यार था,
कोशिश करो, कि तुम्हारे बाद उसे किसी के प्यार की आवश्यकता ही न पड़े
किसीको क्या बताये की ये सज़ा क्या है,
इस बेचैन खामोशी की वजह क्या है…!
हर कोई छोड़ जाता है तनहा हमें,
और हम समज नहीं पाते हमारी खता क्या है…!!
इतना संस्कारिक कलयुग आ गया है कि
लड़की कि विदाई के वक्त..
माँ बाप से ज्यादा तो मोहल्ले के लड़के रो देते है.
ठोकरें खाना बंद करेगा आख़िर कब
दिल जमाने को समझेगा आख़िर कब
मुद्दतों से ख्वाब दिखा रहा है वो
सारे ख्वाब तोड़ जाएगा आख़िर कब
हाल रिश्तों का एक दिन बुरा होते देखा
तू भी मुझे धोखा देगा आख़िर कब
आईने से कई बार पूंछती रहती हूँ
मेरा वज़ूद मुझे तलाशेगा आख़िर कब
याद रखें ये बातें जब आप उदास और निराशा हो तो !! हमारे जीवन में अक्सर ऐसे मौके आते हैं जब हम बहुत निराश और उदास हो जाते हैं। ऐसे मौके पर हमें अपने आप को अपने परिवेश की अच्छी चीजों,अच्छी बातों की याद दिलानी पड़ती है। ऐसा करने से नकारात्मक चीजें अपने आप कही गुम
हो जाती हैं। अगर आप उदासी और निराशा के शिकार है तो इन बातों को याद रखें:-
वक्त सारे घाव भर देता है। हर चीज को वक्त (Time) दिजिये।
जीवन सुलझा होता है इसे उलझाएं नहीं, हर कम को एक एक करके करो।
कुछ भी उतना बुरा (Bad) नहीं है जितना कि दिखता है, इसलिए बूरा सोचना बंद करें।
मौके हर जगह हैं बस आप उन्हे ढूंढो (Search)। अगर आपको अपने बारे में कुछ पसंद नहीं है तो उसे आप कभी भी बदल सकते हैं।
असफलताएं और गलतियां आशीर्वाद और वरदान हैं, यह जितने मिले उतना अच्छा है।
जाने दो यारों वाला ऐटिट्यूड (Attitude) अपनाएं, आप हमेशा खुश रहेंगे।
ये पूरी सृष्टि हमेशा आपके पक्ष में (Favour) काम करती है न की विरोध में ऐसा सोचोगे तभी आगे बदोगे।
हर अगला दिन आपके लिए नयी उमीदों का भण्डार लेकर आता है, और फिर से डटकर हिम्मत और मेहनत से आपने कम को करने में लग जाओ।
दुनिया में अच्छे लोगों की कमी नहीं है, जो आपकी मदद कर सकते हैं और आपको प्रेरित कर सकते हैं। बस कौन अच्छा है यह हमें देखना है।
घने जंगल से गुजरती हुई सड़क के किनारे एक ज्ञानी गुरु अपने चेले के साथ एक बोर्ड लगाकर बैठे हुए थे, जिस पर लिखा था,
“ठहरिये… आपका अंत निकट है। इससे पहले कि बहुत देर हो जाये, रुकिए! हम आपका जीवन बचा सकते हैं।”
एक कार फर्राटा भरते हुए वहाँ से गुजरी। चेले ने ड्राईवर को बोर्ड पढ़ने के लिए इशारा किया। ड्राईवर ने बोर्ड की तरफ देखा और भद्दी सी गाली दी और चेले से यह कहता हुआ निकल गया, “तुम लोग इस बियाबान जंगल में भी धंधा कर रहे हो, शर्म आनी चाहिए।”
चेले ने असहाय नज़रों से गुरूजी की ओर देखा।
गुरूजी बोले, “जैसे प्रभु की इच्छा।”
कुछ ही पल बाद कार के ब्रेकों के चीखने की आवाज आई और एक जोरदार धमाका हुआ।
कुछ देर बाद एक मिनी-ट्रक निकला। उसका ड्राईवर भी चेले को दुत्कारते हुए बिना रुके आगे चला गया।
कुछ ही पल बाद फिर ब्रेकों के चीखने की आवाज़ और फिर धड़ाम।
गुरूजी फिर बोले, “जैसी प्रभु की इच्छा।”
अब चेले से रहा नहीं गया और वह बोला, “गुरूजी, प्रभु की इच्छा तो ठीक है पर कैसा रहे यदि हम इस बोर्ड पर सीधे-सीधे लिख दें कि ‘आगे पुलिया टूटी हुई है’।”

महिला: डॉक्टर साहब आप दवा की शीशियों पर पर्ची चिपका दें।
डॉक्टर: अरे इसकी क्या जरुरत है?
महिला: नहीं डॉक्टर साहब, आप बस पर्चियां चिपका दीजिये।
डॉक्टर: ठीक है परन्तु क्यों?
महिला: दरअसल, इससे मुझे पता रहेगा कि कौनसी गोली मेरे पति के लिए है और कौन सी कुत्ते के लिए है। क्योंकि मैं नहीं चाहती कि शीशी बदल जाए और मेरे कुत्ते को कुछ हो जाए।


Leave a Reply